Thursday, October 1, 2009

" हाँ , मैं तुम्हे सोचने लगा हूँ "

कल रात चांदनी में बैठा ,
मैं जब हवाओं को हाथों से रोक रहा था,
दूर तक फैले अंधेरों में,
मैं कुछ ढूंढ रहा था |

सहसा तुम्हारा चेहरा दिखाई दिया
क्यूँ ? ये न पूछो |
पता नहीं कैसे तुम्हारी याद आई ||

फिर मैं अपने मन को कुछ समझाता ,
तुम्हारे स्पर्श को भ्रम समझ कर भूल जाता ,
कि तुम साथ नहीं हो अभी मेरे,
स्वयं को यही बता पाता,
भय मिश्रित ख़ुशी अपनी शायद ही मैं छुपा पाता,
उस से पहले ही एक शोर से मैं,
लौट आया
फिर अकेला उस रात में ||

बादलों से लड़ रहा था चाँद ज्यूँ
मैं भी लड़ रहा था मन से अपने
मान सकता था कभी जो न मैं
वो ही कहीं सच बन चूका था
सोच रहा था मैं तुम्हे ||


सोच रहा था मैं तुम्हे
और अब तुम ही बताओ
क्या ये प्यार का पहला कदम है ???
और अब तुम ही बताओ
क्या ये प्यार का पहला कदम है ???

10 comments:

  1. Sundar rachana...blog ke naam ne aakarshit kiya..!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. कसक भरी , लेकिन सादगी पूर्ण मनभावन रचनाएँ ! शुभकामनाओं सहित स्वागत है!

    ReplyDelete
  3. भय मिश्रित ख़ुशी अपनी शायद ही मैं छुपा पाता,
    उस से पहले ही एक शोर से मैं,
    लौट आया
    फिर अकेला उस रात में |
    ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं, लेखन कार्य के लिए बधाई
    यहाँ भी आयें आपके कदमो की आहट इंतजार हैं,
    http://lalitdotcom.blogspot.com
    http://lalitvani.blogspot.com
    http://shilpkarkemukhse.blogspot.com
    http://ekloharki.blogspot.com
    http://adahakegoth.blogspot.com
    http://www.gurturgoth.com
    http://arambh.blogspot.com
    http://alpanakegreeting.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. Good One!! Keep Writing!!!
    Please do come to my blog
    lifemazedar.blogspot.com
    Regards
    Chandar Meher

    ReplyDelete
  5. बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
    हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
    टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
    कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
    कृपया मेरे भी ब्लागस देखे और टिप्पणी दे
    http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

    ReplyDelete
  6. चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. आप बहुत अच्छा लिख रहे हैं, और भी अच्छा लिखें, लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
    ---

    ---
    हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

    ReplyDelete
  7. आपका स्वागत है
    आपको पढ़कर अच्छा लगा
    शुभकामनाएं


    *********************************
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक रविवार सुबह 9.00 बजे शामिल
    होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *********************************
    क्रियेटिव मंच

    ReplyDelete
  8. Bahut barhia... isi tarah likhte rahiye

    http://mithilanews.com

    Please Visit:-
    http://hellomithilaa.blogspot.com
    Mithilak Gap...Maithili Me

    http://mastgaane.blogspot.com
    Manpasand Gaane

    http://muskuraahat.blogspot.com
    Aapke Bheje Photo

    ReplyDelete
  9. very nice.. ur hindi writing is far superior than ur english one.. simple yet meaningful :)

    ReplyDelete
  10. Janab,
    aapki yeh rachna wakai kaabil-e-tareef hai...jin bhaavnoan ko apne shabdon mein byaan kerna chaha hai...us praytan mein aap poori terah kaamyaab rahe hein...humein aapke shabdon ka chayan atti uttam laga...issi terah aage likhte rahiyega....hamari shubhkamnayein aapke saath hein :-)

    ReplyDelete

Thank you for taking time out to comment on this creation. Happy Reading . Please revisit.